उत्तराखंड जरा हटके रामनगर

पूर्व सैनिक कल्याण एवम उत्थान समिति द्वारा शहीदो को दी गयी श्रधांजलि।

Spread the love

पूर्व सैनिक कल्याण एवम उत्थान समिति द्वारा शहीदो को दी गयी श्रधांजलि।

 

उधम सिंह राठौर – प्रधान सम्पादक

 

हाल ही जम्मू मे हुवे शहीद उत्तराखंड के पांच जवानों को याद करते हुवे,आज पूर्व सैनिक कल्याण उत्थान समिति रामनगर द्वारा श्रद्धांजलि दी गई,जिसमें पूर्व सैनिक कल्याण एवम उत्थान समिति के सभी पदाधिकारी अध्यक्ष सूबेदार मेजर कुलवंत सिंह रावत सचिव नायक भुवन सिंह डंगवाल व ब्लॉक प्रतिनिधि हवलदार चंद्र मोहन मनराल के नेतृत्व में कई पूर्व सैनिकों वह विद्यालय के छात्रों द्वारा वीरगति को प्राप्त शहीदों को श्रद्धांजलि दी गई, कार्यक्रम की अध्यक्षता कर रहे अध्यक्ष कुलवंत सिंह रावत द्वारा बताया गया कि इस तरह की नापाक हरकत करके आतंकवादियों ने एक कायराना हरकत की है,जो उनकी कायरता को दर्शाता है।

यह भी पढ़ें 👉  देवखड़ी नाले में बहे युवक की तलाश में प्रशासन का सर्च ऑपरेशन जारी।

 

 

 

,वहीं सचिव नायक भुवन सिंह डंगवाल द्वारा बताया गया कि इस तरह की मुठभेड़ सेना मे सेवा में रहते हुए उन्होंने भी कई बार देखी है,और आतंकवादियों से लोहा लेकर कई बार देश सेवा में कई आतंकवादियों को मार गिराया है,उनके द्वारा कहा गया की आज़ भी वो वही जोश और जज्बा रखते है, यदि कभी दुबारा से देश के लिए आतंकवादियों से लोहा भी लेना पडा तो वह स्वयं व उनके सभी पूर्व सैनिक सेना के साँथ कंधे से कन्धा मिलाकर खडे रहेंगे, उन्होंने कहा राजनीती मे रहने के बावजूद आज़ भी वह अपनें को सबसे पहले सैनिक मानते है,।

यह भी पढ़ें 👉  वृक्षो का पातन हेतु डायवर्जन प्लान दिनांक 15.07.2024 समय 10:00 बजे से समाप्ति तक रहेगा*

 

 

 

और स्वयं एक शहीद के बेटे होने का गर्व करते है,कार्यक्रम में उपस्थित, दो बार सेना मेडल हवलदार भारत सिंह रावत नें बताया कि इस तरह की छिटपुट मुठभेड़ से आतंकियों द्वारा सेना के मनोबल को तोड़ने का काम किया जाता है, मगर भारतीय सेना अपने आप में विश्व की सर्वोच सेना है,जो कि इस तरह के छोटे ऑपरेशन से कभी भी नहीं घबराती आज वीरगति को प्राप्त हुए हमारे चारों शहीद सैनिकों के परिवार में भले ही दुख की घड़ी का समय है,परंतु हम उन्हें आशा ही नहीं विश्वास भी दिलाते हैं कि जल्द से जल्द इस तरह की हरकत का जवाब सेना द्वारा दिया जायेगा, कार्यक्रम में उपस्थित है कैप्टन पूरन सिंह बिष्ट द्वारा बताया गया की सेना को कमजोर करने का यह तरीका आतंकीयों द्वारा पहले भी कई बार किया गया,जिसमे पुलवामा अटैक जैसी वारदात को अंजाम दिया गया।

यह भी पढ़ें 👉  आपदा, राहत के कार्य प्राथमिकता से ले* *सभी अधिकारी अलर्ट मोड़ पर रहे

 

 

 

परन्तु हमारी सेना द्वारा किये गए सर्जिकल स्ट्राइक से उन्हें मुँह की खानी पड़ी है।आज़ कार्यक्रम मे उपसचिव हवलदार चंडी प्रसाद जी,संगठन मंत्री भारत बंधु जी,कोषाध्यक्ष संगठन भारत सिंह रावत जी (सेना मैडल),दामोदर जोशी जी,भगवत सिंह चौहान जी,खुशाल सिंह डंगवाल जी, नंदा बल्ल्भ जोशी uजी,पूरन सिंह बिष्ट जी,चंद्र मोहन खाती जी,भूपाल राम जी,रविन्द्र सिंह डंगवाल जी, यासीन, अजमल, सौरभ, यश नेगी, मनोज रावत,आदि कई पूर्व सैनिक व छात्र मौजूद रहे।