लालकुआं उत्तराखंड क्राइम

नाबालिक छात्रा के साथ हुए दुष्कर्म मामले में राज्यपाल के नाम चौकी से प्रेषित किया ज्ञापन।

Spread the love

नाबालिक छात्रा के साथ हुए दुष्कर्म मामले में राज्यपाल के नाम चौकी से प्रेषित किया ज्ञापन।

 

रोशनी पाण्डेयप्रधान संपादक

हल्दुचौड़। लालकुआं में बीते दिनों कक्षा 8 में पढ़ने वाली नाबालिक के साथ हुए दुराचार के मामले में लाल बहादुर शास्त्री महाविद्यालय के छात्राओं में भारी आक्रोश देखने को मिला, कुमाऊ विश्विद्यालय के छात्र महासंघ उपाध्यक्ष सचिन फुलारा के नेतृत्व मे हल्दुचौड़ पुलिस चौकी मे सैकड़ो छात्र-छात्राओं, समाजसेवियों ने तत्काल महिला सुरक्षा के लिए आवश्यक कदम उठाने की मांग की, इस दौरान पुलिस प्रशासन से नशेड़ियों के विरुद्ध तत्काल कार्रवाई की मांग भी की गई।

 

 

ज्ञापन सौपते हुए छात्र महासंघ उपाध्यक्ष सचिन फुलारा ने कहा कि लालकुआं क्षेत्र में लगातार बढ़ रहे नशेड़ी व नशे के कारोबारी पर कार्यवाही की की जाए,उन्होंने मांग की पुलिस, सामाजिक संगठनों के साथ मिलकर खुफिया तंत्र विकसित करें व तत्काल नशेड़ियों के विरुद्ध आवश्यक कार्रवाई सुनिश्चित करें, अन्यथा समाजसेवियों के साथ छात्र महासंघ व छात्रसंघ इस पर मोर्चा खुलेगा।

 

 

वही ज्ञापन में उल्लेखित बिंदुओं पर प्रकाश डालते हुए समाजसेवी पीयूष जोशी ने कहा कि लालकुआं विधानसभा क्षेत्र में संदिग्ध स्थानो व हॉटस्पॉट एरियाज में सीसीटीवी कैमरे तत्काल लगवाए जाएं, महिलाओं के लिए स्पेशल महिला सुरक्षा फोर्स का गठन किया जाए, नशे के विरुद्ध वर्तमान में जारी एंटी नारकोटिक स्क्वाड को भंग करते हुए तत्काल ईमानदार अधिकारियों को एंटी नारकोटिक स्क्वायड की कमान सप्ते हुए तत्काल नशे के विरुद्ध छापेमारी अभियान तेज किया जाए।

यह भी पढ़ें 👉  चोरी मामला: चोर गिरफ़्तार, सोने-चाँदी के ज़ेवर बरामद"

 

इसके साथ-साथ राज्यपाल को के नाम सोपे ज्ञापन में छात्र-छात्राओं ने मांग की की राज्यपाल पुलिस महानिदेशक, महिला आयोग, सामाजिक संगठन छात्रसंघ सहित तमाम अन्य स्टेक होल्डर को साथ लेकर इसके लिए व्यापक रणनीति बनाने पर विचार करें, अन्यथा एक बड़ा आंदोलन किया जाएगा। इस दौरान बिंदुखत्त्ता में हुए इस घटनाक्रम की जांच को तत्काल फास्ट्रेक कोर्ट ने शिफ्ट करने व दोषीयो के विरुद्ध चार्ज शीट में सख्त से सख्त धाराएं लगाने की मांग भी की गई।

 

 

वहीं छात्र नेता प्रतिक जोशी ने कहा कि न सिर्फ नशा बल्कि महिलाओं के साथ छेड़छाड़ की घटनाएं भी लालकुआं में लगातार बढ़ रही है इस पर पुलिस को तत्काल कार्रवाई करने की आवश्यकता है।

यह भी पढ़ें 👉  SSP NAINITAL ने कहा बाबा जी के दरबार में आये भक्तों की सेवा करना उनको सुविधा प्रदान करना हमारी ड्यूटी एवं कर्तव्य

 

 

कोतवालि लालकुआ के कोतवाल दिनेश फर्तीयाल सीआरपीसी,आईपीसी की ट्रेनिंग में होने के कारण उनकी जगह पर मौजूद एसएसआई हरेंद्र नेगी ने संबंधित शिकायतों को सुना व आश्वस्त किया कि सीसीटीवी कैमरे लगाने के लिए आवश्यक रूपरेखा तैयार की जाएगी व जिसमें सामाजिक संगठनों का सहयोग भी लिया जाएगा।

 

 

इसके साथ-साथ युवाओं के साथ मिलकर संदिग्ध जगह पर छापेमारी अभियान तेज किया जाएगा व महिलाओं से संबंधित किसी भी शिकायत पर जागरूकता के लिए रेलवे क्रॉसिंग सहित तमाम जगहों पर पोस्टर आदि लगाकर जागरूकता अभियान भी चलाया जाएगा।

 

 

वहीं सामाजिक संगठनों के साथ भी मिलकर स्कूल सहित तमाम सार्वजनिक जगहों पर पब्लिक के साथ मित्र पुलिस की मित्रता बढ़ाने के लिए आवश्यक कदम उठाए जाएंगे।

 

 

इस दौरान छात्र महासंघ उपाध्यक्ष सचिन फुलारा,समाजसेवी पीयूष जोशी,छात्रसंघ अध्यक्ष कार्तिक रजवार, छात्रसंघ उपाध्यक्ष साहिल शर्मा, संस्कृतिक सचिव तनुजा सागर,पूर्व छात्रसंघ कोषाध्यक्ष कन्हैया भट्ट,छात्रसंघ सचिव खजान चंद्र आर्य, छात्र नेता प्रतिक जोशी, छात्रा उपाध्यक्ष उर्मिला कोरंगा,छात्र नेत्री नेहा बोरा, पंकज जोशी, करण दुमका, किसान नेता सुब्रत विश्वास, उत्तराखंड बेरोजगार संघ कुमाऊं संयोजक भूपेंद्र कोरंगा, प्राउड पहाड़ी समिति अध्यक्ष गणेश धामी,छात्र नेता कन्हैया भट्ट, तनुजा, क्षितिज जोशी,गणेश भट्ट, अमित,शिवानी जीना, संजना राणा, राज चौहान,अनुज सूयाल, जन्मेजय उप्रेती, हर्षित,नीरज उप्रेती,सचिन शाही, मयंक कांडपाल,शालिनी पवार, अविनाश कोहली, कार्तिक गोस्वामी,दीपक पांडे आदि दर्जनों छात्र-छात्राएं व समाजसेवी मौजूद रहे ।

यह भी पढ़ें 👉  कैंची मेले की सुरक्षा की दृष्टिगत नैनीताल पुलिस अलर्ट, वाहन चैकिंग जारी*

बॉक्स:
ज्ञापन नहीं होती प्रमुख मांगे :
1. लालकुआं में सन्धिग्ध स्थनो पर सीसीटीवी कैमरे लगाए जाएं।
2. लालकुआं में एंटी नारकोटिक व एंटी ड्रग एस्कॉर्ट का गठन किया जाए।3. लाल कुआं में जंजागरूकता अभियान चलाया जाए
4. महिलाओं के लिए विशेष पुलिस सेल का गठन किया जाए जिससे महिला संबंधी सुरक्षा व अन्य मामलो की देखरेख की जा सके।5. राज्यपाल डीजीपी,महिला आयोग,जिलाधिकारी व मुख्य न्यायाधीश के साथ बैठकर एक विशेष टास्क फोर्स का गठन करें व इस विषय पर विस्तृत गाइडलाइन व विशाखा गाइडलाइन का पालन सुनिश्चित करवाये।