उत्तराखंड जरा हटके रामनगर

“रामनगर में भक्ति और समर्पण: अयोध्या प्राण प्रतिष्ठा के रूप में अनूठा धार्मिक उत्सव”

Spread the love

“रामनगर में भक्ति और समर्पण: अयोध्या प्राण प्रतिष्ठा के रूप में अनूठा धार्मिक उत्सव”

रोशनी पांडे  – प्रधान संपादक

पुरे देश मे अयोध्या राममंदिर प्राण प्रतिष्ठा का भव्य आयोजन कौतुहल का विष्य रहा,जिसे प्रत्येक हिंदू परिवार नें ेएक उत्सव के रूप मे मनाया, रामनगर क्षेत्र मे भी कई स्थानों पर अयोध्या प्राण प्रतिष्ठा के अवसर पर पूजा पाठ, सुन्दर काण्ड आदि किये गए, वही पम्पापुरी क्षेत्र मे मातृ शक्ति के आवाहन पर राम दरबार मूर्ति स्थापना का कार्यक्रम रखा गया था, जिस पर सभी क्षेत्रवासियो द्वारा सहयोग कर 22 जनवरी को पूर्ण प्राण प्रतिष्ठान कर राम दरबार की स्थापना की गयी,

यह भी पढ़ें 👉  बेतालघाट में हुई सड़क दुर्घटना* के सम्बंध में झूठी खबरें एवं भ्रामक खबर छापने वालों के विरुद्ध होगी आवश्यक विधिक कार्यवाही।

 

 

तत्पश्चात पुरे शहर को भंडारे हेतु आमंत्रित किया गया था जिस पर नीवर्तमान सभासद भुवन सिंह डंगवाल द्वारा बताया गया की, राम जो की सभी के ईश्वर है सभी के पालक है,जो कण कण मे विद्यमान है,राम जो ेएक आदर्श पुत्र और पति की भूमिका मे स्वत्र पूजे व जाने जाते है उन्हें सभी का प्रेरणादायक माना जाता है, क्षेत्रवासियों के आपसी दान सहयोग और मातृ शक्ति के सुझाव पर पम्पापुरी स्तिथ भूमिया मंदिर मे इस बार राम दरबार की स्थापना की गयी, कार्यक्रम को महिला शक्ति द्वारा भव्य रूप प्राप्त हुवा,प्रथम दिन 21 जनवरी को मूर्ति को शहर लाये जाने पर प्राण प्रतिष्ठान से पूर्व जजमानो द्वारा मूर्ति का पुरे क्षेत्र मे भृमण कराया गया,द्वितीय दिन 22 जनवरी को प्रातः कलश यात्रा व बाद मे राम दरबार स्थापना के पश्चात क्षेत्रवासियो हेतु भंडारे की व्यवस्था की गयी।

यह भी पढ़ें 👉  राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह (से नि) ने एआई तकनीक से निर्मित 'राजभवन मैत्री चैटबॉट' का किया लोकार्पण: ज्ञान और नवाचार का नया माध्यम

 

 

कार्यक्रम मे जजमानो की भूमिका मे  सुरेन्द्र सिंह गुसाई,  गणेश रावत शुभाष ध्यानी,  नरेंद्र सिंह रावत द्वारा सहयोग दिया, साँथ ही कार्यक्रम मे  शंकर दत्त बोड़ाई,प्रमोद उपाध्याय, धीरज उपाध्याय,  दिनेश सिंह मनराल,हेमंत नेगी,नरेंद्र चौहान,चन्दन जमनाल व चंदू बुधोरी द्वारा अपना सहयोग दिया गया,सभी बाहर से आये मेहमानों का तिलक लगाकर व भंडारा ग्रहण कर सफलतम कार्यक्रम हेतु सभी को बधाई दी गयी।

यह भी पढ़ें 👉  भगवान श्री विश्वनाथ और मां जगदीशशिला की डोली रथ यात्रा: काशीपुर में उत्तराखंड के प्रसिद्ध देवी-देवताओं का आगमन