उत्तराखंड क्राइम नैनीताल

नैनीताल टैक्सी हादसा: चालक फरार, आईटीबीपी जवानों ने खाई से पांच यात्री को बचाया।

Spread the love

नैनीताल टैक्सी हादसा: चालक फरार, आईटीबीपी जवानों ने खाई से पांच यात्री को बचाया”

रोशनी पांडेय – प्रधान संपादक

नैनीताल घूमने लौट रहे दिल्ली के पर्यटकों की टैक्सी लौटते समय खाई में गिर गई। हादसे में चालक समेत पांच लोग चोटिल हो गए। हालांकि चालक मौका पाकर फरार हो गया। आईटीबीपी के जवानों ने घायलों को  खाई से निकाला। बीडी पांडे अस्पताल के डॉक्टर ने उन्हें सुशीला तिवारी अस्पताल में भर्ती कराया जहां उनकी हालत में सुधार है। द्वारिका दिल्ली निवासी सोनू गुप्ता (32) अपनी पत्नी प्रीति, बच्ची तायरा और परिवारिक सदस्य विभा के साथ नैनीताल घूमने आए थे। मंगलवार को वे लौट रहे थे। उन्होंने नैनीताल से हल्द्वानी के लिए टैक्सी बुक की। सुबह करीब 9:45 बजे उनकी कार अनियंत्रित होकर दोगांव के पास खाई में गिर गई। इस बीच वहां से गुजर रहे आईटीबीपी के जवानों ने खाई में उतरकर घायलों को बाहर निकाला।

यह भी पढ़ें 👉  एसएसपी नैनीताल ने कैची धाम मेले की सुरक्षा व्यवस्था परखी, डॉग स्क्वाड टीम अलर्ट* *मेले को सकुशल संपन्न कराने को तैयार है नैनीताल पुलिस*

 

सोनू गुप्ता का आरोप है कि चालक लापरवाही से वाहन चला रहा था। इसी कारण कार अनियंत्रित होकर खाई में गिर गई। हादसे के बाद चालक फरार हो गया। घायलों को एसटीएच ले जाया गया, जहां सभी की हालत खतरे से बाहर है।

यह भी पढ़ें 👉  बेतालघाट, नैनीताल में एक पिकअप पलटने के मामले में 108 को कॉल करने पर फोन न उठाने की खबर को सुनते हुए मुख्यमंत्री ने स्वास्थ्य सचिव से जांच के निर्देश दिए हैं।

 

नैनीताल। ज्योलीकोट के निकट दुर्घटनाग्रस्त दिल्ली के पर्यटकों को वहां से गुजर रहे नैनीताल बीडी पांडे अस्पताल के डॉ. हाशिम अंसारी ने मौके पर प्राथमिक उपचार देने के बाद खुद अपने वाहन से सुशीला तिवारी अस्पताल ले जाकर भर्ती कराया।

यह भी पढ़ें 👉  योग दिवस 21 जून के अवसर पर प्रदेश का मुख्य कार्यक्रम हल्द्वानी में प्रदेश के मुख्यमंत्री की अगुवाई में होना है इस सम्बन्ध में व्यवस्थाओं को लेकर जिलाधिकारी वंदना ने बैठक में अधिकारियों को दिये दिशा निर्देश।*

 

डॉ. हाशिम बीडी पांडे अस्पताल नैनीताल से नाइट ड्यूटी कर हल्द्वानी जा रहे थे। उसी दौरान आर्मी के जवान दुर्घटना ग्रस्त वाहन से घायलों को निकाल रहे थे। डाॅ. हाशिम घायलों को मेडिकल हेल्प के इरादे से वहीं रुक गए। उनकी जांच व प्राथमिक उपचार के बाद डॉ. हाशिम घायलों को सुशीला तिवारी अस्पताल लेकर गए और भर्ती करवाया।